तैयार हैं भारत के 2 सबसे शानदार और बेहतरीन हाइवे, सुविधाएं ऐसी कि चीन-अमेरिका भी रह गए पीछे

14

New Delhi: देश के दो सबसे आधुनिक हाइवे बनकर पूरी तरह तैयार हैं और कुछ ही घंटों बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन दोनो हाइवे का उद्घाटन करेंगे।
रविवार सुबह पीएम मोदी उत्तर प्रदेश के बागपत में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे और दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे के पहले फेज का उद्घाटन करने जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री दिल्ली से मेरठ हाईवे पर खुली जीप में 6 किलोमीटर लंबा रोड शो भी करेंगे। यह 96 किमी लंबा देश का पहला स्मार्ट और ग्रीन हाईवे है, इसे बनाने में 841 करोड़ लागत आई। वहीं, हरियाणा के सोनीपत के कुंडली से पलवल के बीच बना EPE 11 हजार करोड़ की लागत से तैयार हुआ है। इसकी लंबाई 135 किलोमीटर है। इस प्रोजेक्ट के उद्घाटन में देरी पर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने हाईवे अथॉरिटी को फटकार लगाते हुए कहा था कि अगर पीएम के पास समय नहीं है तो इसे 1 जून से चालू कर दिया जाए।

केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी का रोड शो दिल्ली के निजामुद्दीन ब्रिज से शुरू होगा। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर खुली जीप में 6 किलोमीटर चलने के बाद मोदी एक प्रदर्शनी और एक्सप्रेसवे के 3डी मॉडल का उद्घाटन करेंगे। इसके बाद मोदी हेलिकॉप्टर से बागपत रवाना होंगे और यहां इस परियोजना को देश को समर्पित करेंगे।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे में क्या खास: गडकरी ने बताया कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को 841 करोड़ की लागत से तैयार हुआ है। यह सोलर पावर से लैस देश का पहला हाईवे है। 8 सोलर प्लांट बनाए गए हैं, जिनमें 4 हजार किलो वॉट बिजली पैदा होगी। हर 500 मीटर पर दोनों तरफ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बने हैं। यमुना ब्रिज पर दोनों ओर सोलर सिस्टम लगे हैं। यह देश का पहला ब्रिज होगा, जिस पर वर्टिकल गार्डन, सोलर पावर सिस्टम और ड्रिप सिंचाई के इंतजाम होंगे। इस एक्सप्रेसवे के दोनों ओर 2.5 मीटर चौड़ा साइकिल और पैदल यात्रियों के लिए 1.5 मीटर चौड़ा ट्रैक बनाया गया है।

इस हाइवे के जरिए अब सिर्फ 45 मिनट में दिल्ली से मेरठ पहुंचा जा सकेगा। अभी 96 किमी दूरी तय करने में करीब 3 घंटे तक लग जाते हैं। इस पर दिल्ली के निजामुद्दीन ब्रिज से यूपी बॉर्डर (गाजियाबाद) तक 6 लेन बनी हैं। इनमें से 4-4 लेन हाईवे की हैं। हाईवे का काम रिकॉर्ड 17 महीने (करीब 500 दिन) में पूरा हुआ है।

वहीं ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे सोनीपत के कुंडली से पलवल और गाजियाबाद तक जाता है। इसके शुरू होने के बाद हरियाणा और यूपी के बीच चलने वाले वाहन दिल्ली में नहीं घुसेंगे। इस हाइवे की लंबाई 135 किलोमीटर है और करीब 11 हजार करोड़ की लागत से इसे तैयार किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.